-->

 


भाई-बहन के पवित्र रिश्ते को कलंकित करने का मामला सामने आया है। यहां दशहरे के दिन भाई ने अपने ही परिवार की ही इज्जत तार-तार कर दी। 




खबरों के लगातार अपडेट के लिए जुड़ें 👇🏻👇🏻

 https://chat.whatsapp.com/KkLGnvpXJggIGrouOlI0mZ

भाई ने ऐसा शर्मसार करने वाला और समाज के इस पवित्र बंधन को छिन्न-भिन्न करने वाला काम किया है कि लोग अपने मुंह से उसका नाम तक लेना पाप समझ रहे हैं।लोग कह रहे हैं कि मर्यादा पुरूषोत्तम राम के समय का रावण कम से कम इतना निकृष्ट तो नहीं था।



शराब के नशे में युवक ने अपनी चचेरी बहन से बलात्कार किया। परिवार में किसी को बता न दे इसलिए हत्या करने के उद्देश्य से हाथ-पांव बांधकर पैरों में लकड़ी बांधकर कुएं में धकेल दिया। इसपर भी मन नहीं माना तो ऊपर से पत्थर भी फेंका जिससे उसकी मौत हो जाए।

सुबह उधर से गुजर रहे चरवाहे ने आवाज सुनी तो पुलिस को सूचना दी। सूचना पर पुलिस हेडकांस्टेबल बुधाराम ने तत्परता दिखाते हुए ग्रामीणों की मदद से पीड़िता को बाहर निकालकर मारवाड़ जंक्शन अस्पताल में भर्ती करवाया। जहां उसका इलाज हो रहा है।


वहीं घटना के बाद आरोपी मौके से फरार हो गया। पुलिस खोजबीन में लगी और देर शाम तक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। मारवाड़ जंक्शन थानाप्रभारी मोहनसिंह ने बताया कि थाना क्षेत्र निवासी एक 25 वर्षीय विवाहित महिला पति के अनबन के चलते पिछले कुछ समय से पीहर में रह रही है। गुरुवार देर शाम को उसका भाई उसे कोयला तोड़ने के लिए लोलावास

गांव के निकट अपनी झोपड़ी में ले गया।


रात को शराब के नशे में आरोपी ने अपनी बहन के साथ बलात्कार किया। जिस पर पीड़िता ने उसे धिक्कारा तथा परिवार के लोगों को उसकी करतूत बताने की बात कही। सुबह साढ़े तीन बजे तक दोनों में बहस चलती रही। आरोपी उसे समझता रहा कि किसी को यह बात मत बताना। लेकिन पीड़िता अपनी बात पर अड़ी रही तो आरोपी ने उसकी हत्या करने के उद्देश्य से निकट के एक कुएं में सुबह करीब चार बजे उसका हाथ-पांव बांधकर धकेल दिया।


किस्मत से पीड़िता के हाथ में कुएं की दीवार पर लगा पत्थर हाथ में आ गया। जिसे पकड़कर वह बैठी रही। यह देख आरोपी ने ऊपर से उस पर पत्थर फेंके। किस्मत अच्छी थी कि पीड़िता को एक भी पत्थर नहीं लगा। अंधेरे में बहन को मरा हुआ समझकर आरोपी फरार हो गया।

3 घंटे कुएं में पत्थर पकड़कर बैठी रही पीड़िता


थानाप्रभारी मोहनसिंह ने बताया कि सुबह करीब चार बजे से साढ़े छह बजे तक पीड़िता पत्थर पकड़कर बैठी रही। सुबह में उधर से गुजर रहे एक पशुपालक ने उसकी आवाज सुनी तो पुलिस थाने पहुंच कर पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने मौके पर पहुंच पीड़िता को कुएं से निकाला तथा अस्पताल भर्ती करवाया।


पीड़िता ने पर्चा बयान में बताया कि उसके बड़े पिता का बेटा उसे कोयला तोड़ने के लिए लोलावास स्थित अपनी झोपड़ी पर ले गया था। जहां नशे में उसके साथ उसके भाई ने बलात्कार किया। परिजनों को बताने की धमकी दी तो आरोपी ने उसे मारने की नीयत से कुएं में धकेल दिया तथा ऊपर से पत्थर फेंके।



अधिक से अधिक दोस्तों को शेयर करें 👇🏻👇🏻