-->

 


लखनऊ :आदर्श कारागार के कैदियों ने पहले बैरकों में मशरूम उगायी। अब इसी मशरूम से कैदियों ने जेल की बेकरी में चाकलेट, केक, बिस्किट, पापड़, नमकीन व आटा सहित 50 तरह के उत्पाद बनाने में कामयाबी हासिल की।




खबरों के लगातार अपडेट के लिए जुड़ें 👇🏻👇🏻 

https://chat.whatsapp.com/LqtnkFbjXiMBX6C6eNCgQu

 यह उत्पाद राजधानी के मॉल और बेकरी में आम लोगों के लिए किफायती दरों पर उपलब्ध हैं। इससे होने वाली आमदनी से मशरूम उगाने, उत्पाद बनाने अन्य मदों का खर्च निकालने के बाद बची रकम कैदियों को मिलेगी। जेल के करीब 100 कैदी आमदनी करने के साथ आत्मनिर्भर बन गए हैं। 

सभी सेंट्रल जेलों में बनेंगे मशरूम  के उत्पाद


आदर्श कारागार में मशरूम व बेकरी उत्पाद स्थापित होने के बाद डीजी जेल आनन्द कुमार ने प्रदेश को सभी सेंट्रल जेलों में न्यू रेनबो स्टार एग्रो मशरूम कम्पनी को इसे शुरू करने की सहमति दी है। अब प्रयागराज स्थित नैनी, वाराणसी, बरेली, फतेहगढ़ और आगरा की सेंट्रल जेलों में मशरूम उगाने के साथ उत्पाद तैयार होंगे। इन जेलों के करीब 1000 हज़ार कैदियों को रोजगार मिलेगा। उन्हें जल्द प्रशिक्षण दिया जाएगा।

ऐसे हुआ मुमकिन


आदर्श कारागार के जेलर सीपी त्रिपाठी बताते हैं कि जेल में मशरूम उगाने और उत्पाद बनाने का काम न्यू रेनबो स्टार एग्रो मशरूम कंपनी की मदद से सम्भव हुआ है। न्यू रेनबो स्टार एग्रो मशरूम की निदेशक ईशा लालू गौतम के मुताबिक उत्पादन से लेकर मार्केटिंग का सारा खर्च कंपनी उठती है। ईशा बताती हैं कि बहुत कम समय में कैदियों ने प्रशिक्षण कर सारा काम संभाल लिया है। 



अधिक से अधिक दोस्तों को शेयर करें 👇🏻👇🏻