-->

 


रायगढ़। रायगढ़ जिले के छाल थाना अंतर्गत आने वाले पोंडी में हालात ने एक माता-पिता अपने मृत नवजात बच्चे को कंधे में उठाकर भटकने पर मजबूर कर दिया गया है। स्थिति यह है कि पुलिस में शिकायत के बाद भी न तो कोई जांच हो रही है और न तो कई घंटे बीत जाने के बाद भी मृत बच्चे का पोस्टमार्टम हो सका है। इंसाफ मांग रहा गरीब पिता दर-दर भटकने पर मजबूर है और उसकी कोई सुनने वाला भी नही है। यह मामला छाल थाने के ग्राम पोंडी का है जहां 04 जून को एक नवजात स्वस्थ्य बच्चा रमेश कुमार पटेल की पत्नी रजनी पटेल के पेट से जन्म लेता है।

खुशहाल माता पिता अपने लाडले बेटे को संवारने के लिए लगे ही थे कि उसकी मौत दूसरा टीका लगने से कल रात को मौत हो गई। पिता रमेश कुमार के अनुसार दूसरा टीका कमी होनें के चलते नही लगा था, लेकिन कल जब दोपहर को उसके बच्चे को छाल के प्राथमिक स्वास्थ्य में लगाया गया तो कुछ घंटे बाद उसका बच्चा पहले काला पड गया और उसके बाद धीरे-धीरे उसने तडपते हुए दम तोड दिया जबकि उसी दिन तीन अन्य बच्चों को भी टीका लगा था उन्हें कुछ नही हुआ। चैकाने वाली बात यह है कि नवजात बच्चे को टीका लगाते ही उसका शरीर काला पड़ जाना कई प्रश्न खडे कर रहा है।

बताया जा रहा है कि नवजात बच्चे की संदिग्ध मौत के बाद बिलासपुर के एक विशेषज्ञ डाक्टर के द्वारा मामले की जांच की जाएगी। पीड़ित परिजनों ने नवजात बच्चे की मौत के बाद छाल थाना प्रभारी के नाम लिखे गए शिकायत में कहा है कि 04 जून की रात्रि 1ः40 मिनट में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र छाल में नवजात का जन्म हुआ था और 15 जून को पोंडी आंगनबाड़ी में दोपहर 12 बजे टीका लगने के बाद रात्रि 9ः45 मिनट में बच्चे को बेहोश देखकर परिजनों के द्वारा तत्काल बच्चे को छाल हास्पीटल ले जाया गया जहां उपस्थिति डाक्टरों ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया। परिजनों के द्वारा अब छाल थाना में इस मामले की शिकायत करते हुए कार्रवाई की मांग की गई है।


खबरों के लगातार अपडेट के लिए हमसे जुड़ें 👇🏻👇🏻



अधिक से अधिक दोस्तों को शेयर करें 👇🏻👇🏻