-->


 राज्य में कोरोना संक्रमण धीरे-धीरे बढ़ रहा है। छत्तीसगढ़ में एक्टिव मरीजों की संख्या 632 हो गई है और यह देश में संक्रमण के मामले में 13वें नंबर पर आ गया है। एक्टिव मरीजों की संख्या को लेकर स्वास्थ्य विभाग इसलिए चिंतित है क्योंकि छत्तीसगढ़ की सीमा से लगे चार बड़े राज्यों आंध्रप्रदेश, ओड़िशा, झारखंड और मध्यप्रदेश में यहां से कम एक्टिव मरीज हैं।

महाराष्ट्र में ही एक्टिव केस यहां से अधिक हैं। प्रदेश में पिछले 10 दिन में कोरोना से दो मरीजों की मृत्यु हो चुकी है। पिछले चार दिन से रोजाना मिलने वाले संक्रमितों की संख्या 100 के पार हो चुकी है। छत्तीसगढ़ में जून के शुरुआती पखवाड़े में कोरोना के मरीज केवल रायपुर, दुर्ग और बिलासपुर के अलावा एकाध जिले में ही और मिल रहे थे।

अब यह दायरा बढ़ने लगा है। कम ही सही, लेकिन रायपुर और दुर्ग में नए संक्रमित मिलने की रफ्तार ज्यादा है। जहां तक देशभर के आंकड़ों का सवाल है, एक्टिव केस के मामले में छत्तीसगढ़ देश में 13वें स्थान पर है। यहां दो लोगों की मौत के बाद मृत्यु दर 1.22% पर पहुंच गई है। छत्तीसगढ़ में 23 जून की स्थिति में कुल संक्रमितों की संख्या 11 लाख 53 हजार 470 तक पहुंच गई है।

यह आंकड़ा पहली, दूसरी और तीसरी लहर को मिलाकर है। इसमें अभी 632 एक्टिव केस हैं। संक्रमण दर यानी पाजिटिविटी रेट फिलहाल 0.05% है। बिलासपुर सीएमएचओ डा. प्रमोद महाजन का कहना है कि जीनोम सीक्वेंसिंग में अब तक नया वैरिएंट नहीं मिला है, अर्थात मरीज डेल्टा या ओमिक्रान वाले ही हैं। राहत यही है कि मरीज कम गंभीर हैं।

4 जिलों में मरीज शून्य, इनमें 3 बस्तर के


प्रदेश के चार जिलों में अब भी कोरोना का एक भी केस नहीं मिला है। इनमें बिलासपुर संभाग के गौरेला-पेंड्रा-मरवाही के अलावा बस्तर संभाग के 3 जिले कोंडागांव, सुकमा और बीजापुर हैं। वहां रोजाना 500 से 1000 सैंपल तक जांचे जा रहे हैं, फिर भी कोरोना का संक्रमण नहीं मिल रहा है।