-->

 


रायपुरः Clinics running without license राजधानी में 1342 स्वास्थ्य संस्थान हैं। लेकिन 654 संस्थान जैसे अस्पताल, नर्सिंग होम और क्लीनिक के पास संचालन करने का लाइंसेंस नहीं है। इसमें से सभी संस्थान MBBS, MD, MS डॉक्टर्स के हैं।

जब जांच की गई तो पता चला कि विभागीय कारणों के चलते संस्थानों को लाइंसेंस मिलने में देरी हो रही है। किसी के पास बायोमेडिकल वेस्ट का लाइसेंस नहीं है, किसी के पास फायर सेफ्टी का सर्टिफिकेट नहीं है। इन दस्तावेजों के बिना रजिस्ट्रेशन नहीं किया जा सकता।

रुप क्लीनिक के संचालक डॉ. सुरेश चिमनानी ने बताया कि वे जिस कैंपस में क्लीनिक संचालित कर रहे हैं, उनके और निगम के बीच प्रापर्टी टैक्स का विवाद है। जिसके चलते उन्हे लाइसेंस नहीं मिल पा रहा है। कई क्लीनिकों का लाइसेंस ऐसे ही कारणों की वजह से रुका हुआ है।


खबरों के लगातार अपडेट के लिए हमसे जुड़ें 👇🏻👇🏻



अधिक से अधिक दोस्तों को शेयर करें 👇🏻👇🏻