-->


 रायपुर I भिलाई स्टील प्लांट के एक कर्मचारी को रायपुर की पुलिस ने गिरफ्तार किया है। वजह है रेप जैसा संगीन जुर्म। 58 साल के महेश चंद्राकर नाम के इस शख्स ने 18 साल की एक लड़की को अपना शिकार बनाया। महेश को रायपुर की डीडी नगर थाने की पुलिस ने अरेस्ट किया। कोर्ट में पेश करने के बाद इसे रायपुर जेल में भेजा गया है। जिस तरह से इसने घटना को अंजाम दिया वो हैरान करने वाला है।

भिलाई की रहने वाली लड़की ने पुलिस को बताया कि वो अपनी बुआ के साथ रहती है। घरेलू काम-काज में गड़बड़ी की वजह से लड़की और उसकी बुआ के बीच विवाद हो गया। लड़की अपने घर से निकल कर मैत्री गार्डन आ गई। वह परेशान थी और सड़क पर किनारे खड़ी होकर रो रही थी। यहां से गुजर रहे महेश चंद्राकर की इस पर नजर पड़ी। बाइक सवार महेश लड़की के करीब आ गया।

महेश ने पूछा कि तुम रो क्यों रही हो। लड़की ने घरेलू परेशानी बताई। मीठी-मीठी बातें करके महेश ने लड़की का ध्यान भटकाया और कहा- मैं तुम्हें घर छोड़ देता हूं, आओ मेरी बाइक पर बैठो, मैं ले चलता हूं। परेशान लड़की ने भरोसा कर लिया और बाइक पर बैठ गई। इसके बाद महेश लड़की को बातों में उलझाकर उतई के रास्ते महादेव घाट रायपुर ले आया।

खंडहर में रेप


महेश ने लड़की को बाइक से उतरने को कहा। लड़की ने पूछा कि कहां ले आए हो। महेश ने कहा कि यहां उसे कुछ काम है, इसके बाद शॉर्टकट रास्ते से ले जाकर वो लड़की को घर छोड़ देगा। वो लड़की को अपने साथ खंडहर में ले गया। इसके बाद शारीरिक संबंध बनाने को कहने लगा। लड़की ने शोर मचाने की कोशिश की तो महेश ने उसे बदनाम करने और हत्या करने की धमकी देकर दुष्कर्म किया। इसके बाद लड़की को भिलाई जाने वाली सड़क पर छोड़ दिया।

ऐसे आया पकड़ में


घटना के बाद महेश फरार था, लेकिन उसने लड़की को एक कागज में अपना नाम और मोबाइल नंबर दिया। कहा कि दोबारा भी मिलेगा। महेश ने लड़की को 500 रुपए देकर घर लौटने कहा और किसी ने कुछ कहने पर उसे जान से मारने की धमकी दी। रात तक लड़की अपने घर पहुंची। एक दो दिन उसने किसी से कुछ नहीं कहा। फिर अपनी बुआ को सब कुछ बता दिया।

रायपुर के डीडी नगर थाने आकर लड़की के परिजनों ने सारी बात पुलिस को बताई और महेश का लिखा कागज दिखाया। इसीके आधार पर पुलिस ने महेश को धर दबोचा। भिलाई स्टील प्लांट का ये कर्मचारी अब रायपुर जेल की सलाखों के पीछे है।

×