-->


 कई तरह के विवादों के बाद आखिरकार 15 सितंबर से शहर में सिटी बसें चलनी शुरू हो जाएंगी। राजधानी में चलने वाली 67 सिटी बसों में हर हफ्ते 15-15 के स्लॉट में अलग-अलग रूट्स पर सिटी बसें चलने लगेंगी। कोरोनाकाल के करीब ढाई साल बाद शुरू हो रही बसों का किराया 20 से 25 फीसदी तक बढ़ेगा।

पंडरी बस स्टैंड भाठागांव में शिफ्ट होने की वजह से बसों के रूट्स भी बदल जाएंगे। रेलवे स्टेशन से भाठागांव अंतरराज्यीय बस टर्मिनल और जीरो प्वाइंट को नए रूट में जोड़ा जा रहा है। बस स्टैंड के भाठागांव चले जाने की वजह से शहर के लोगों को रेलवे स्टेशन से बस स्टैंड जाने में दिक्कत हो रही है। बलौदाबाजार से आने वाले लोगों को जीरो प्वाइंट के पास उतारा जा रहा है। इसलिए इन लोगों को भी नया बस स्टैंड जाने में काफी परेशानी होती है। इस वजह से नए रुट जोड़े जा रहे हैं।

डीजल की कीमत बढ़ी, बढ़ेगा किराया


दो साल में डीजल की कीमत काफी बढ़ गई है। इसलिए अब किराया बढ़ाने की भी मांग हो रही है। राज्य शासन ने किराये में 25 फीसदी की बढ़ोतरी की है। रूट बदलने की वजह से भी किराया बढ़ेगा। जैसे पहले बस स्टैंड से रेलवे स्टेशन की दूरी कम थी। इसलिए लोगों को कम किराया देना पड़ता था। लेकिन अब भाठागांव बस स्टैंड से रेलवे स्टेशन की दूरी बढ़ गई है।

जीरो प्वाइंट से परेशानी खत्म होगी


बलौदाबाजार-खरोरा रूट से शहर आने और जाने वाले लोगों को जीरो प्वाइंट के पास कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। दरअसल यात्री बस वाले लोगों को वहीं उतार देते हैं। वहां से शहर आने वाले लोगों से आटो वाले मनमाना किराया वसूलते हैं। सिटी बसों को अब भाठागांव बस स्टैंड से रेलवे स्टेशन होेते हुए खरोरा रूट यानी जीरो प्वाइंट से कनेक्ट किया जाएगा।

दो साल का टैक्स माफ किया गया


कोरोना की वजह से बंद बसों को चलाने के लिए राज्य सरकार ने आपरेटर को बड़ी राहत दी है। सिटी बसों का दो साल का टैक्स माफ कर दिया गया है। इसका नोटिफिकेशन भी जारी हो गया है। अप्रैल 2020 से मार्च 2022 तक का त्रैमासिक टैक्स अब बस आपरेटर को नहीं देना होगा। रायपुर में सिटी बस चलाने का टेंडर दुर्ग के मनीष ट्रैवल्स को दिया गया है। इससे पहले रायल ट्रैवल्स के पास था।

×