-->

 


कोयले की कीमत में अप्रत्याशित वृद्धि की वजह से छत्तीसगढ़ में बिजली के दाम 30 पैसा प्रति यूनिट बढ़ गया है। सरकार ने संकेत दिए हैं कि अगले कुछ महीनों में बिजली की दर और महंगी हाे सकती है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गुरुवार को कहा, तीन-चार हजार रुपए प्रति टन की जगह अगर विदेशों से 15 से 18 हजार रुपए टन का कोयला आएगा तो उत्पादन महंगा होगा ही। उन्होंने कहा, इस महंगे कोयले का अभी पूरा इफेक्ट आना बाकी है।

रायपुर पुलिस लाइन हेलीपैड पर प्रेस से चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, सैकड़ों यात्री ट्रेनों को बंद करने के बाद भी कोयला उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। जितनी इस देश में खदान है वह पूर्ति नहीं कर पा रही है। इसके कारण से केंद्र सरकार विदेशों से कोयला मंगवा रही है। यहां का कोयला 3-4 हजार रुपया टन है तो बाहर का कोयला 15 से 18 हजार रुपया प्रति टन आ रहा है। इसके कारण बिजली उत्पादन महंगा हो गया है। अभी तो थोड़ा बढ़ा है यह और बढ़ेगा। मुख्यमंत्री ने कहा, जब आप 18 हजार रुपया प्रति टन में कोयला खरीदेंगे तो बिजली फिर महंगी होगी। मुख्यमंत्री ने पूछा-एनटीपीसी के जितने भी पॉवर प्लांट हैं वे बिजली दर बढ़ाएंगे तो राज्य में बिजली की कीमत नहीं बढ़ेगी? उनका कहना था, अभी और तैयार रहिए। इसका पूरी तरह जब इफेक्ट आएगा तो बिजली का बिल और बढ़ जाएगा।

रेलबंदी पर भड़के मुख्यमंत्री, बताया केंद्र की नाकामी


छत्तीसगढ़ में पैसेंजर ट्रेन के लगातार बंद होते जाने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बड़ी नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा, केंद्र सरकार को इससे कोई लेना-देना नहीं कि आम जनता को क्या परेशानी हो रही है। ये लगातार ऐसे निर्णय ले रहे हैं, जिससे आम जनता परेशान हो। जब से रेल यातायात शुरू हुआ है तब से सरकार ने कभी रेल बंद नहीं किया है। आंदोलन के चलते बंद हो जाए या मरम्मत के लिए एक-दो दिन के लिए बंद हो जाए तो अलग है। महीनों-महीने तक के लिए सैकड़ों ट्रेनों को बंद कर दिया जाए ऐसा कभी नहीं हुआ। गरीब लोग, मध्यम श्रेणी के लोग जिससे सफर करते हों उसे बंद कर दिया। उनकी परेशानी से इनको कोई लेना-देना नहीं।

रेलवे को बेचने की कोशिश का अंदेशा जताया


मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्र सरकार पर हमला करते हुए कहा, सेवा तो इनके एजेंडे में ही नहीं है। इनका एजेंडा केवल पैसा कमाना है। चाहे वह तेल बेचकर हो। क्रूड आयल सस्ता हो गया, लेकिन आपको महंगा तेल मिलेगा। अब कोयला ढुलाई के नाम पर ये यात्री ट्रेन को बंद कर दिए हैं। कोयला ढुलाई करेगा तो फायदे में रहेगा ही। लेकिन पैसेंजर ट्रेन बंद है। जो चल रही है वह कई-कई घंटे लेट चल रही है। हिंदुस्तान को जोड़ने वाली जो सबसे बड़ी व्यवस्था है वह ट्रेनें हैं। उसको कमजोर करने और देर-सवेर बेचने की इनकी तैयारी है यह दिखने लगा है।

रायपुर में भेंट-मुलाकात खत्म, सड़क बड़ी समस्या


मुख्यमंत्री गुरुवार को रायगढ़ जिले में तीन विधानसभा क्षेत्रों का दौरा कर लौटे हैं। उन्होंने कहा, रायगढ़ जिले की सभी विधानसभा में भेंट-मुलाकात संपन्न हो गया। सभी योजनाओं के बारे में फीडबैक है। रायगढ़ में मुख्य रूप से सड़कों की हालत ठीक नहीं है। खासकर खदान क्षेत्रों में बड़ी गाड़ियों के जाने के कारण सड़कें खराब हुई हैं। उसको स्वीकृत भी कर दिए हैं। बरसात के बाद उनपर काम शुरू हो जाएगा। अच्छी बात यह हुई है कि उन क्षेत्रों में भी स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल और बैंकों की मांग बढ़ी है। उसकी भी घोषणा की है ताकि लोगों को दूर न जाना पड़े। हमारी नीतियों की वजह से लोगों के पास पैसा पहुंच रहा है, ऐसे में वहां बैंकिंग सेवा की बहुत जरूरत है।

×